ईमेल एड्रेस क्या है? | Email Address Kya Hota Hai

Email Address Kya Hota Hai
ईमेल एड्रेस क्या होता है ?

आज के इस डिजिटल दुनिया में हम सभी ऑफिशियल मैसेज भेजने के लिए ईमेल का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन आप में से बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें इसके बारे में जानकारी नहीं है वे नहीं जानते कि Email address kya hota hai | ईमेल एड्रेस क्या होता है या इसका इस्तेमाल कैसे करें, कुछ ऐसे भी लोग हैं जिन्हें ईमेल एड्रेस तो पता है लेकिन ईमेल कैसे करना है इसकी जानकारी नहीं होती है।

इसलिए आज के अपने इस आर्टिकल में हम आपको ईमेल एड्रेस क्या होता है के बारे में संपूर्ण जानकारी देंगे इसके साथ ही इससे जुड़ी अन्य जानकारी भी आप तक पहुंचाएंगे।

ईमेल क्या होता है?

सरल भाषा में समझे ईमेल का सरल सा मतलब होता है किसी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के जरिए जानकारी या संदेश को पहुंचाना, ई-मेल में ई का मतलब इलेक्ट्रॉनिक और मेल का मतलब संदेश होता है। ईमेल के जरिए ही आप किसी को भी ऑनलाइन तरीके से कोई भी डॉक्यूमेंट या कोई भी संदेश आसानी से कुछ ही समय में भेज सकते हैं।

पुराने जमाने में हम संदेश भेजने के लिए चिट्ठी का इस्तेमाल करते थे, लेकिन ऐसे में हमारे संदेश हो प्राप्तकर्ता तक पहुंचने में समय लगता था, उसी समय को बचाने के लिए हम नई नई टेक्नोलॉजी से जुड़े रहे हैं और अपने समय की बचत कर रहे हैं। आज के समय में उसी चिट्टी की जगह ई-मेल ने ले ली है।

Email address kya hota hai | ईमेल एड्रेस क्या होता है?

यदि हमें किसी व्यक्ति को ईमेल भेजना है तो उसके लिए सबसे जरूरी है कि हमारे पास उस व्यक्ति का ईमेल एड्रेस हो, दरअसल हर ईमेल का अपना एक एड्रेस होता है, और उसी एड्रेस पर प्राप्तकर्ता को संदेश भेजा जाता है।

E-mail address ke parts | ईमेल एड्रेस के अंग

अगर आपको किसी को ईमेल करना है तो आपके लिए जरूरी है कि आप ईमेल एड्रेस के पार्ट्स के बारे में जान ले। आपको बता दें ईमेल एड्रेस के 5 पार्ट होते हैं जोकि नीचे आपको विस्तार से बताए गए हैं।

  1. Recipient (प्राप्तकर्ता):– ईमेल भेजते वक्त सबसे पहला ऑप्शन आपको रेसिपिएंट का मिलेगा जहां पर आपको प्राप्तकर्ता का ईमेल एड्रेस डालना होता है और ईमेल का सबसे जरूरी पार्ट यही होता भी है।
  2. Subject (सब्जेक्ट):– ई-मेल का दूसरा पार्ट सब्जेक्ट होता है जहां पर आपको अपने मैसेज का विषय बताना होता है हालांकि इस ऑप्शन को भरना जरूरी नहीं होता, लेकिन अगर आप बता देंगे तो सामने वाले को पूरा मैसेज पढ़े बिना संदेश का विषय पता चल जाएगा।
  3. Message (संदेश):– ई-मेल के इस हिस्से में आप अपने संदेश को विस्तार पूर्वक बताते हैं जो भी जानकारी आपको प्राप्तकर्ता तक पहुंचा है वो यहां पर बताई जाती है।
  4. Attachment (अटैचमेंट):– ई-मेल के इस पार्ट में आप अपने मैसेज के साथ यदि कोई डॉक्यूमेंट या कोई फोटो भी लगाना चाहते हैं तो इस पर क्लिक करके अटैच कर सकते हैं।

ईमेल एड्रेस कैसे बनाएं?

अगर आपको अपना ईमेल आईडी बनाना नहीं आता है तो यहां पर हम आपको कुछ स्टेप्स बता रहे हैं जैसे कि आप आसानी से ईमेल एड्रेस बना सकते हैं।

  • ईमेल आईडी बनाने के लिए सबसे पहले गूगल पर जाकर जीमेल सर्च करें और सबसे ऊपर आ रहे लिंक पर क्लिक करें।
  • अब क्रिएट अकाउंट के विकल्प पर क्लिक करें।
  • इसके बाद अपनी पूरी जानकारी डालें जैसे कि आपका नाम, यूजरनेम पासवर्ड आदि, और फिर नेक्स्ट बटन पर क्लिक करें।
  • इतना करने के बाद आपको अपना मोबाइल नंबर, डेट ऑफ बर्थ और जेंडर डालकर, ई मेल रिकवरी, और नेक्स्ट बटन पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद अगले पेज पर आपके सामने जीमेल की कुछ प्राइवेसी और टम्स कंडीशन आएंगे जिससे आपको एग्री कर देना है।
  • इस तरह से आप बड़े ही आसानी से अपना ईमेल एड्रेस बना सकते हैं।

ई-मेल एड्रेस कहां कहां बना सकते हैं?

आपको अपनी ईमेल आईडी बनाने के लिए ईमेल सर्विस प्रोवाइडर की वेबसाइट पर जाना होगा। यहां पर हम आपको कुछ ईमेल सर्विस प्रोवाइडर वेबसाइट के नाम बता रहे हैं जहां आप फ्री में ईमेल आईडी बना सकते हैं।

  • Yahoo Mail
  • Gmail
  • Protonmail
  • Yandex Mail
  • iCloud Mail
  • Mail.com

ईमेल एड्रेस के फायदे | Advantage of email

  • ईमेल का इस्तेमाल करना बहुत ही आसान है, और एक बार ईमेल आईडी बना लेने पर आप उसे लाइफटाइम इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • यदि आपके पास इंटरनेट कनेक्शन है तो एक क्लिक पर आपका संदेश प्राप्तकर्ता के पास पहुंच जाएगा।
  • आप एक साथ कई लोगों को अपना संदेश भेज सकते हैं।
  • ई-मेल में किसी के एड्रेस को ढूंढना भी बहुत आसान है आप सर्च आइकन पर क्लिक करके एक सेकंड में किसी का भी मेल ऐड्रेस सर्च कर सकते हैं।
  • ईमेल के जरिए आपका मैसेज प्राप्तकर्ता तक कम समय में पहुंच जाता है।
  • ई-मेल के जरिए बातचीत करना बहुत ही आसान हो जाता है, कस्टमर और विजिटर्स के बीच में समय कम लगता है।
  • ई-मेल का इस्तेमाल करना प्रोफेशनलिज्म लगता है और यदि आप किसी ब्रांड, कंपनी और वेबसाइट की तरफ से ईमेल भेजते हैं तो वह आपका इंप्रेशन भी अच्छा डालता है।

यह भी पढ़ें: प्ले स्टोर से ऐप अपडेट कैसे करें

ई-मेल के नुकसान | Disadvantage of email

ई-मेल के बहुत सारे फायदे हैं तो इसके कुछ नुकसान भी हैं जैसे कि ईमेल में कुछ ऐसे मैसेजेस भी आते हैं जिसमें वायरस होता है और वह आपके मोबाइल का सारा डाटा लिक कर सकते हैं इसलिए ईमेल पर आए किसी भी लिंक को बिना जाने क्लिक न करें।

FAQs:

ईमेल का आविष्कार किसने किया?

Ray Tomlinson ने ईमेल एड्रेस का आविष्कार किया।

ईमेल एड्रेस का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

ईमेल एड्रेस का इस्तेमाल संदेश भेजने के लिए किया जाता है।

ईमेल का फुल फॉर्म क्या होता है?

ई-मेल का फुल फॉर्म इलेक्ट्रॉनिक मेल है।

निष्कर्ष:- आज के अपने इस पोस्ट में हमने आपको बताया की ईमेल एड्रेस क्या होता है, इसके अलावा ईमेल से जुड़ी कई जानकारी हमने आपको विस्तार से बताई, उम्मीद करते हैं आपको हमारा आज का आर्टिकल पसंद आया होगा।

यह भी पढ़ें:

Similar Posts